Saturday, 5 April 2014

एक कविता नदी के लिए - राकेश रोहित

कविता 
एक कविता नदी के लिए
- राकेश रोहित 

हम सबके जीवन में
नदी की स्मृति होती है
हमारा जीवन
स्मृतियों की नदी है।

नदी खोजते हूए हम
घर से निकल आते हैं
और घर से निकल हम
खोयी हुई एक नदी याद करते हैं।


नदी खोजते हुए हम / घर से निकल आते हैं - राकेश रोहित 

नदी की तलाश में ही कवि निलय उपाध्याय
गंगोत्री से गंगासागर तक हो आए
अब एक नदी उनके साथ चलती है
अब एक नदी उनके अंदर बहती है।

बचपन में कभी
तबीयत से उछाला एक पत्थर*
नदी के साथ बहता है
और
नदी की तलहटी में कोई सिक्का
चुप प्रार्थनाओं से लिपटा पड़ा रहता है।

सभ्यता की शुरुआत में
शायद कोई नदी किनारे रोया था
इसलिए नदी के पास अकेले जाते ही
छूटती है रुलाई
और मन के अंदर
कहीं गहरे दबा प्यार  वहीं याद आता है।

नदी किनारे अचानक 
एक डर हमें भिंगोता है
और गले में घुटता है
कोई अनजाना आर्तनाद


नदी किनारे अचानक / एक डर हमें भिंगोता है - राकेश रोहित 

कुछ गीत जो दुनिया में
अब भी बचे हुए हैं
उनमें नदी की याद है
अब भी नदी की हवा
आकर अचानक छूती है
तो पुरखों के स्पर्श से
सिहरता है मन!

दोस्तों!
इस दुनिया में
जब कोई नहीं होता साथ
एक अकेली नदी हमसे पूछती है -
तुम्हें जाना कहाँ है?


एक अकेली नदी हमसे पूछती है - तुम्हें जाना कहाँ है? / राकेश रोहित
(*एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों - दुष्यंत कुमार)

19 comments:

  1. बहुत अच्छी कविता है राकेश। मेरा नाम न होता तो खुल कर कहता..अपनी बात।

    ReplyDelete
  2. निलय जी आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है. आपका हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी कविता है राकेश जी।

    ReplyDelete
  4. भाई बहुत अच्छी कविता है आपकी.........बधाई

    ReplyDelete
  5. उनमें नदी की याद है अब भी नदी की हवा आकर अचानक छूती है तो पुरखों के स्पर्श से सिहरता है मन!---अत्यंत भाव प्रवण ,शानदार अभिव्यक्ति .
    मंजुल भटनागर

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर ,कविता इतना कुछ कहती है और कुछ कहना ठीक नहीं | शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. मन को छूने वाली कविता

    ReplyDelete
  8. Dil Ko anndar tak hila gayi-bhanatak, savedana se paripurn.

    ReplyDelete
  9. नदी की यात्रा के बहाने आपने मुझे अपने बचपन के गाँव में लौटा दिया...

    ReplyDelete
  10. नदी की तलहटी में कोई सिक्का
    चुप प्रार्थनाओं से लिपटा पड़ा रहता है।--अति सुन्दर सृजन .मंजुल भटनागर

    ReplyDelete
  11. atyant bhaw pradhaan hey aasha kartey hein kavi man mein behtee nadi ka kal-kal pravaah humein sadaa aanandit karta rahega.

    ReplyDelete
  12. हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में "ब्लॉगप्रहरी एग्रीगेटर और सोशल नेटवर्क " आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे दिए गये लिंक पर जाकर पंजीयन करें और अपने ब्लॉग से पैसे कमायें |http://www.blogprahari.com/add-your-blog

    ReplyDelete
  13. अब भी नदी की हवा
    आकर अचानक छूती है
    तो पुरखों के स्पर्श से
    सिहरता है मन!

    ReplyDelete
  14. कल 07/दिसंबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया रचना ...

    ReplyDelete
  16. बहुत खूबसूरत रचना ,शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  17. marmik, shabd or bhav nadi ki dhar ki tarah chhal-chhal bathe huye se hain..

    ReplyDelete