Tuesday, 12 October 2010

स्वर्ग से दूर - राकेश रोहित

लघुकथा

                                  स्वर्ग से दूर
                                                                     - राकेश रोहित

      " शादी के बारे में तुम्हारा विचार क्या है?" लड़के ने पूछा तो लड़की ने कहा, "कुछ खास नहीं. मैं इसे जरूरी नहीं समझती प्रेम के लिए."

      "अफ़सोस तुम ऐसा सोचती हो, फिर भी मैं तुमसे प्यार करता हूँ."

      "... और जब स्वप्न-स्वर्ग में उन्होंने वर्जित फल चखे तो लड़की शादी करना चाहती थी और लड़के का विचार बदल गया था!                                                                                                                         ooo

No comments:

Post a comment