Sunday, 24 October 2010

संतुलन - राकेश रोहित

लघुकथा 
                                          
                              संतुलन 
                                                                   
                                                               - राकेश रोहित

        लड़की के पांव में जन्म से कुछ लंगड़ापन था. डॉक्टर ने कहा - ठीक हो सकता है, पर खर्च काफी होगा. पिता ने कुछ सोचा, घर के अर्थ-संतुलन के बारे में और धूम-धाम से उसकी शादी कर दी. शादी तो करनी ही थी. अब लड़के वाले पांव का इलाज खुद करवा लेंगे.

        एक दिन लड़की चूल्हे के पास अपना संतुलन  संभाल न सकने के कारण गिर पड़ी और.... ooo

1 comment:

  1. बहुत कुछ इशारे करती....कटाक्ष करती....अच्छी लघुकथा!!!!!!

    ReplyDelete