Sunday, 24 October 2010

आँसू - राकेश रोहित

लघुकथा 

                              आँसू 
                                                                  
                                                                     - राकेश रोहित

         वह शायर नहीं था, पर उसकी झील- सी आँखों में डूब गया. ... और उसकी झील- सी आँखें समंदर बन गईं, जिनसे हर वक्त नमक रिसता रहा.  ooo

No comments:

Post a comment